ये हैं स्पेस और धरती की 7 अनसुलझी पहेलियां, जो अब भी बनी हैं रहस्य

यूएफओ साइटिंग डेली वेबसाइट के अनुसार अर्जेंटीना के ब्यूनस आयर्स से कुछ ही दूरी पर एक आइलैंड है जिस पर एक गोल घेरा घूमता देखा गया। एलियंस हंटर्स के मुताबिक, नकली दिखने वाला ये आइलैंड असल में एलियंस का ठिकाना है। हालांकि, साइंटिस्ट इस बात को नहीं मानते हैं। लेकिन धरती और स्पेस से जुड़े कई ऐसे रहस्य हैं, जो आज भी अनसुलझे हैं। क्या है इस गड्ढे की सच्चाई…


साइबेरिया के रहस्यमयी गड्ढे

साइबेरिया के यमल प्रायद्वीप में बने विशालकाय गड्ढों की मिस्ट्री अब तक सुलझ नहीं पाई है। 2014 में पहली बार इनका पता चला, तब से रिसर्च जारी है। पहले इसके उल्कापिंड के टकराने की वजह से बनने की बात सामने आई। इसके बाद एक्सपर्ट्स ने जमीन के भीतर बढ़ी गर्मी से पड़े दबाव को वजह बताया। वहीं, कुछ ‘जियोथर्मल हीट फ्लक्स’, तो कुछ ने जमीन के भीतर मीथेन गैस लीकेज को जिम्मेदार ठहराया। हालांकि, असल वजह अब तक सामने नहीं आई।


7 Modern Astronomy Mysteries Scientists Still Can't Explain

मलबा है या UFO, क्या इसकी सच्चाई?

यूएस स्पेस एजेंसी नासा को स्पेस में कुछ मलबा दिखा। वैज्ञानिकों ने इसे ‘WT1190F’ नाम दिया। उस मलबे पर नासा दो महीने से नजर रखे हुए थी। सबसे पहले इसे फरवरी 2013 में देखा गया था। हालांकि, वैज्ञानिकों का मानना है कि मलबा 2009 से ही पृथ्वी का चक्कर लगा रहा था। यह रहस्य का मुद्दा इसलिए बना हुआ है, क्योंकि अब तक किसी आर्टिफिशियल सैटेलाइट के तौर पर इसकी पहचान नहीं हो पाई है।


7 Modern Astronomy Mysteries Scientists Still Can't Explain

मेक्सिको का टियाटिहुआकन शहर

मेक्सिको सिटी (Mexico city) के ठीक बाहरी इलाके में टियाटिहुआकन स्थित है। यह पिरमिडों की एक खंडहर सिटी है। इस जगह का मूल नाम टियाटिहुआकन नहीं है, लेकिन इसका अर्थ होता है प्लेस ऑफ द गॉड (Palce of God)। इसकी खोज एजटेक्स ने की थी और उसी ने यह नाम इस जगह को दिया था। एजटेक्स का मानना था कि यह शहर मध्ययुग में अचानक प्रकट हुआ। 500 वर्ष पहले यह जगह खंडहर में बदल गई है। हालांकि, इसके अस्तित्व को लेकर कोई भी अन्य अवधारणा प्रचलित नहीं है, क्योंकि लिखित में भी इसके बारे में कुछ भी उपलब्ध नहीं है। फिर भी यह स्ट्रक्चर आज भी रहस्य बना हुआ है। इस बस्ती को देखकर अनुमान लगाया जा सकता है कि यहां 25000 लोग रहते होंगे। इसका निर्माण अर्बन ग्रिड सिस्टम की तरह हुआ है, जिस तरह न्यूयार्क का हुआ है। यहां एक पिरामिड के अंदर काफी हड्डियां मिली हैं।


7 Modern Astronomy Mysteries Scientists Still Can't Explain

कजाखस्तान की अजीबोगरीब आकृतियां

कजाखस्तान के तुरगई रीजन में बनी अजीबोगरीब आकृतियां (Geoglyphs) भी रहस्य का मुद्दा बनी हुई हैं। माना जाता है कि ये आकृतियां 8,000 साल पुरानी सभ्यता की निशानी हैं और इन्हें नोटिस नहीं किया गया। एक्सपर्ट्स इन्हें लैटिन अमेरिकी देश पेरू की ‘नाज्का लाइन्स’ जैसा बताते हैं। वहीं, यूएफओ हंटर्स इसे एलियंस से जोड़कर देख रहे हैं


7 Modern Astronomy Mysteries Scientists Still Can't Explain

शनि के चंद्रमा पर जीवन?

वैज्ञानिक पृथ्वी के अलावा दूसरे ग्रहों पर भी जीवन की तलाश कर रहे हैं। उनके मुताबिक, केवल बृहस्पति ग्रह के चंद्रमा ‘यूरोपा’ पर ही जीवन संभव है। हालांकि, रिसर्च में शनि के छठवें चंद्रमा ‘एन्सेलेडस’ पर ऐसे केमिकल्स होने के सबूत मिले, जो एलियंस की मौजूदगी की ओर इशारा करते हैं। ‘नेचर’ मैगजीन में पब्लिश हुई इस रिसर्च में ‘एन्सेलेडस’ पर 6 मील गहरे समंदर होने की भी बात कही गई है।


7 Modern Astronomy Mysteries Scientists Still Can't Explain

स्टोनहेन्ज

इंग्लैंड के स्टोनहेंज में मौजूद 17 मॉन्यूमेंट के बारे में रिसर्चर्स अब तक कुछ पता नहीं लगा पाए हैं। अंडरग्राउंड मैपिंग से पता चला है कि यह जगह कभी वीरान नहीं थी। कहा जाता है कि यह 5,000 साल पुराना है। 2015 में खुदाई करने पर जमीन के नीचे प्राचीन मंदिर, मकबरे और कुएं मिले थे।


7 Modern Astronomy Mysteries Scientists Still Can't Explain

30 करोड़ साल पुराना लोहे का पेंच

1998 में रूसी वैज्ञानिक दक्षिण-पश्चिम मॉस्को से करीब 300 किलोमीटर दूर एक उल्का के अवशेष की जांच कर रहे थे। इस दौरान उन्हें एक पत्थर का टुकड़ा मिला, जिसमें लोहे का पेंच संलग्न था। भूवैज्ञानिकों के मुताबिक, ये पत्थर 300 मिलियन (30 करोड़) साल पुराना है। तब न तो कोई प्रबुद्ध प्रजाति हुआ करती थी और न ही धरती पर डायनासोर हुआ करते थे। पत्थर के बीच लोहे का पेंच साफ दिखाई पड़ता है। इसकी लंबाई एक सेंटीमीटर और व्यास तीन मिलीमीटर है।


Facebook Comments
405 Total Views 1 Views Today

Related Post

Amish Tripathi

कुछ जानने की चाहत, कुछ बताने की इक्छा, वक़्त लगता है इस मुकाम तक आने में ..

Leave a Reply