कालेधन की सर्जिकल स्ट्राइक में बर्बाद हो गए अरविन्द केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की बौखलाहट देखकर ऐसा लग रहा है कि कालेधन की सर्जिकल स्ट्राइक में सबसे अधिक नुकसान उन्हीं को हुआ है और वे पूरी तरह से बर्बाद हो गए हैं इसलिए वे अच्छे काम की भी आलोचना कर रहे हैं, पूरा देश इस सर्जिकल स्ट्राइक की तारीफ कर रहा है लेकिन केजरीवाल इस योजना को रोकने की मांग कर रहे हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सरकार के 500 और 1,000 रुपये के नोट को रद्द करने के फैसले को शनिवार को वापस लेने की मांग की। केजरीवाल ने कहा कि यदि सरकार ने इस फैसले को वापस नहीं लिया तो आगामी दिनों में अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान होगा

केजरीवाल ने कहा कि विमुद्रीकरण से काला धन बैंकिंग प्रणाली में वापस नहीं आएगा। उन्होंने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्यों को सरकार के इस कदम के बारे में पहले से ही जानकारी थी और उन्होंने इस घोषणा से पहले ही अपने काले धन को ठिकाने लगा दिया।

केजरीवाल ने सरकार से पूछा, “इस बात का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि कई बैंकों में जमा राशि, जो पिछले कई महीने से कम होती जा रही थी, अचानक जुलाई-सितंबर तिमाही में दो से तीन प्रतिशत तक बढ़ गई। इससे पता चलता है कि कई हजार करोड़ रुपये खाते में जमा हो गए हैं। यह किसका पैसा है?”

arvind-kejriwal-lost-huge-amount-of-money-due-note-ban

उन्होंने आगे कहा, “इसका मतलब यह है कि भाजपा के नजदीकी लोग सरकार के इस कदम से पहले से ही वाकिफ थे। उन्होंने पहले ही अपने काले धन को ठिकाने लगा दिया, जबकि आम लोगों को परेशानी हो रही है।”

केजरीवाल ने कहा कि यह पूरी प्रक्रिया व्यर्थ होने जा रही है और इससे काले धन की एक फूटी कौड़ी भी अर्थव्यवस्था में नहीं आएगी।

Facebook Comments
631 Total Views 1 Views Today

Amish Tripathi

कुछ जानने की चाहत, कुछ बताने की इक्छा, वक़्त लगता है इस मुकाम तक आने में ..

Leave a Reply