Mehandipur Balaji Temple – Place To See Live Exorcism

Do you believe in the power of the unknown? Have you ever experienced a close encounter of the third kind? How many of you would actually travel to see live ? Visit Mehandipur Balaji Temple – Place To See Live Exorcism.

If the answer to even one of the above is yes, then you’re in the right place. Most of us, after watching a horror movie at 2 am, think we are Igor the Invincible. Well let me puncture your thought right away. I guarantee that nothing can be more horrifying than witnessing a sea of humans (all possessed by evil spirits) under one roof! Where, you’d ask? The legendary Mehandipur Balaji Temple, which is believed to be the only religious place in India where live exorcism takes place. I once challenged my friend to visit this temple, and boy, was she brave to accept the challenge! Now, whether it was out of sheer curiosity to unveil the dark truth or to prove her mettle, I had no clue, but did she regret her visit? We’ll discover soon enough.

The curious path to the Land of Exorcism…

 Road Map to Mehndipur Balaji Temple

The Eerie Journey Begins

One fine morning, Devika, my friend started her journey to the temple from Delhi. The road leading to Mehandipur Balaji is pretty straight forward but somehow she ended up losing her way, not once but thrice! “Despite following the GPS, I kept getting lost. Don’t know whether it was a warning of sorts…” she explained. Unsure but undeterred, she continued her search. And finally, after five long hours, she made it to the Mehandipur village in the Dausa district in Rajasthan.

She saw a large entrance and followed the directions to the temple. At first glance Mehandipur village didn’t scare her. Like a typical village, there were small shops, children walking to school and people busy in their everyday routine. But the moment she reached the temple premises, the vibe instantly changed. There was a long queue outside the temple accompanied by petty shopkeepers who were trying to sell prasad to her. But Devika dare not say no, for it is considered unlucky to refuse them. Ironically, the prasad (black-coloured balls) served here are not meant to be eaten but thrown into fire. Isn’t that strange?

A Temple Full of Evil Spirits

 The Mehandipur Balaji Temple is flocked by people in large numbers every day.

 mehandipur_balaji_temple-dausa-rajasthan

As she stepped inside, she realised that the eeriness of the temple is reflected in its architecture. Broadly divided into four sections or chambers, she was welcomed not by the sound of bells but by the loud scream of men and women, err… spirits! The first two chambers have idols of Lord Hanuman and Lord Bhairon, where she was asked to throw the black-coloured balls into the ceremonial fire. The legend here says that by doing so, you keep all evil forces at bay. Since the temple is dedicated to the most powerful of Hindu deities- Lord Hanuman, it is believed that his power can actually ward off any black magic force on Earth.

However, when Devika crossed the verandah to reach the third chamber, fear got a hold on her. “I felt a very strong presence of negative energy around me… as if someone was following me”. People were staring at her (as if in a trance) and some were even crying. On reaching the third chamber, she was taken aback. Men and women were banging their heads on pillars, some women poured hot water over themselves without feeling any pain. The sight was enough to give her goosebumps! As if that wasn’t enough, the last chamber (which is apparently less frequented by visitors) left her speechless. “I saw adults and children chained to big rocks, being beaten by a pundit”. It is believed that this practice is followed every day to ward off multiple evil spirits from the bodies of affected people. Also, no food or water is given to them until the spirits leave their bodies. Without spending much time, Devika immediately left the last chamber of the temple.

The sea of humans possessed by evil spirits…

 Ghost

Shaken by the horror and the inhuman cruelties that are a commonplace at this temple, all Devika could say was, “I think I do regret coming here, it was damn scary”. Although it was a huge relief for her once she left the village but the brief ten minutes, rather 600 seconds that she spent inside (yes, every second counts here) was the most disturbing experience of her life. At Mehandipur Balaji, everything comes with a warning or a superstitious belief. Here is a list of do’s and don’ts that she was asked to follow when visiting and leaving the temple:

 Believe it or not…

“Anyone who decides to go there, must pray constantly to come back safe and sane”, concluded Devika after coming back from the road trip. Now, I dare you. Are you game for this journey? Keep me posted…

 

History Of Mehndipur Balaji Temple

राजस्थान के सवाई माधोपुर और जयपुर की सीमा रेखा पर स्थित मेंहदीपुर कस्बे में बालाजी का एक अतिप्रसिद्ध तथा प्रख्यात मन्दिर है जिसे श्री मेंहदीपुर बालाजी मन्दिर के नाम से जाना जाता है । भूत प्रेतादि ऊपरी बाधाओं के निवारणार्थ यहां आने वालों का तांता लगा रहता है। तंत्र मंत्रादि ऊपरी शक्तियों से ग्रसित व्यक्ति भी यहां पर बिना दवा और तंत्र मंत्र के स्वस्थ होकर लौटते हैं । सम्पूर्ण भारत से आने वाले लगभग एक हजार रोगी और उनके स्वजन यहां नित्य ही डेरा डाले रहते हैं ।

mehandipur balaji temple dausa rajasthan
Shree Mehandipur Balaji Temple Dausa Rajasthan

 

Shri Menhadipur Balaji Mandir, Rajasthan: बालाजी का मन्दिर मेंहदीपुर नामक स्थान पर दो पहाड़ियों के बीच स्थित है, इसलिए इन्हें घाटे वाले बाबा जी भी कहा जाता है । इस मन्दिर में स्थित बजरंग बली की बालरूप मूर्ति किसी कलाकार ने नहीं बनाई, बल्कि यह स्वयंभू है । यह मूर्ति पहाड़ के अखण्ड भाग के रूप में मन्दिर की पिछली दीवार का कार्य भी करती है । इस मूर्ति को प्रधान मानते हुए बाकी मन्दिर का निर्माण कराया गया है । इस मूर्ति के सीने के बाईं तरफ़ एक अत्यन्त सूक्ष्म छिद्र है, जिससे पवित्र जल की धारा निरंतर बह रही है । यह जल बालाजी के चरणों तले स्थित एक कुण्ड में एकत्रित होता रहता है, जिसे भक्त्जन चरणामृत के रूप में अपने साथ ले जाते हैं । यह मूर्ति लगभग 1000 वर्ष प्राचीन है किन्तु मन्दिर का निर्माण इसी सदी में कराया गया है ।

 

मुस्लिम शासनकाल में कुछ बादशाहों ने इस मूर्ति को नष्ट करने की कुचेष्टा की, लेकिन वे असफ़ल रहे । वे इसे जितना खुदवाते गए मूर्ति की जड़ उतनी ही गहरी होती चली गई । थक हार कर उन्हें अपना यह कुप्रयास छोड़ना पड़ा । ब्रिटिश शासन के दौरान सन 1910 में बालाजी ने अपना सैकड़ों वर्ष पुराना चोला स्वतः ही त्याग दिया । भक्तजन इस चोले को लेकर समीपवर्ती मंडावर रेलवे स्टेशन पहुंचे, जहां से उन्हें चोले को गंगा में प्रवाहित करने जाना था । ब्रिटिश स्टेशन मास्टर ने चोले को निःशुल्क ले जाने से रोका और उसका लगेज करने लगा, लेकिन चमत्कारी चोला कभी मन भर ज्यादा हो जाता और कभी दो मन कम हो जाता । असमंजस में पड़े स्टेशन मास्टर को अंततः चोले को बिना लगेज ही जाने देना पड़ा और उसने भी बालाजी के चमत्कार को नमस्कार किया । इसके बाद बालाजी को नया चोला चढाया गया । यज्ञ हवन और ब्राह्मण भोज एवं धर्म ग्रन्थों का पाठ किया गया । एक बार फ़िर से नए चोले से एक नई ज्योति दीप्यमान हुई । यह ज्योति सारे विश्व का अंधकार दूर करने में सक्षम है ।  

 

Mehandipur Balaji Temple - Place To See Live Exorcism
Mehandipur Balaji Temple – Place To See Live Exorcism

बालाजी महाराज के अलावा यहां श्री प्रेतराज सरकार और श्री कोतवाल कप्तान ( भैरव ) की मूर्तियां भी हैं । प्रेतराज सरकार जहां द्ण्डाधिकारी के पद पर आसीन हैं वहीं भैरव जी कोतवाल के पद पर । यहां आने पर ही सामान्यजन को ज्ञात होता है कि भूत प्रेतादि किस प्रकार मनुष्य को कष्ट पहुंचाते हैं और किस तरह सहज ही उन्हें कष्ट बाधाओं से मुक्ति मिल जाती है । दुखी कष्टग्रस्त व्यक्ति को मंदिर पहुंचकर तीनों देवगणों को प्रसाद चढाना पड़ता है । बालाजी को लड्डू प्रेतराज सरकार को चावल और कोतवाल कप्तान (भैरव) को उड़द का प्रसाद चढाया जाता है ।

 

इस प्रसाद में से दो लड्डू रोगी को खिलाए जाते हैं और शेष प्रसाद पशु पक्षियों को डाल दिया जाता है । ऐसा कहा जाता है कि पशु पक्षियों के रूप में देवताओं के दूत ही प्रसाद ग्रहण कर रहे होते हैं । प्रसाद हमेशा थाली या दोने में रखकर दिया जाता है । लड्डू खाते ही रोगी व्यक्ति झूमने लगता है और भूत प्रेतादि स्वयं ही उसके शरीर में आकर बड़बड़ाने लगते है । स्वतः ही वह हथकडी और बेड़ियों में जकड़ जाता है । कभी वह अपना सिर धुनता है कभी जमीन पर लोट पोट कर हाहाकार करता है । कभी बालाजी के इशारे पर पेड़ पर उल्टा लटक जाता है । कभी आग जलाकर उसमें कूद जाता है । कभी फ़ांसी या सूली पर लटक जाता है । मार से तंग आकर भूत प्रेतादि स्वतः ही बालाजी के चरणों में आत्मसमर्पण कर देते हैं अन्यथा समाप्त कर दिये जाते हैं । बालाजी उन्हें अपना दूत बना लेते हैं। संकट टल जाने पर बालाजी की ओर से एक दूत मिलता है जोकि रोग मुक्त व्यक्ति को भावी घटनाओं के प्रति सचेत करता रहता है ।

 

बालाजी महाराज के मन्दिर में प्रातः और सायं लगभग चार चार घंटे पूजा होती है । पूजा में भजन आरतियों और चालीसों का गायन होता है। इस समय भक्तगण जहां पंक्तिबद्ध हो देवताओं को प्रसाद अर्पित करते हैं वहीं भूत प्रेत से ग्रस्त रोगी चीखते चिल्लाते उलट पलट होते अपना दण्ड भुगतते हैं । श्री प्रेतराज सरकार बालाजी मंदिर में प्रेतराज सरकार दण्डाधिकारी पद पर आसीन हैं। प्रेतराज सरकार के विग्रह पर भी चोला चढ़ाया जाता है। प्रेतराज सरकार को दुष्ट आत्माओं को दण्ड देने वाले देवता के रूप में पूजा जाता है । भक्ति-भाव से उनकी आरती, चालीसा, कीर्तन, भजन आदि किए जाते हैं ।

 

बालाजी के सहायक देवता के रूप में ही प्रेतराज सरकार की आराधना की जाती है। पृथक रूप से उनकी आराधना – उपासना कहीं नहीं की जाती, न ही उनका कहीं कोई मंदिर है। वेद, पुराण, धर्म ग्रन्थ आदि में कहीं भी प्रेतराज सरकार का उल्लेख नहीं मिलता। प्रेतराज श्रद्धा और भावना के देवता हैं। कुछ लोग बालाजी का नाम सुनते ही चैंक पड़ते हैं। उनका मानना है कि भूत-प्रेतादि बाधाओं से ग्रस्त व्यक्ति को ही वहाँ जाना चाहिए। ऐसा सही नहीं है। कोई भी – जो बालाजी के प्रति भक्ति-भाव रखने वाला है, इन तीनों देवों की आराधना कर सकता है। अनेक भक्त तो देश-विदेश से बालाजी के दरबार में मात्र प्रसाद चढ़ाने नियमित रूप से आते हैं। किसी ने सच ही कहा है, नास्तिक भी आस्तिक बन जाते हैं, मेंहदीपुर दरबार में । प्रेतराज सरकार को पके चावल का भोग लगाया जाता है, किन्तु भक्तजन प्रायः तीनों देवताओं को बूंदी के लड्डुओं का ही भोग लगाते हैं और प्रेम-श्रद्धा से चढ़ा हुआ प्रसाद बाबा सहर्ष स्वीकार भी करते हैं। कोतवाल कप्तान श्री भैरव देव कोतवाल कप्तान श्री भैरव देव भगवान शिव के अवतार हैं और उनकी ही तरह भक्तों की थोड़ी सी पूजा-अर्चना से ही प्रसन्न भी हो जाते हैं । भैरव महाराज चतुर्भुजी हैं। उनके हाथों में त्रिशूल, डमरू, खप्पर तथा प्रजापति ब्रह्मा का पाँचवाँ कटा शीश रहता है । वे कमर में बाघाम्बर नहीं, लाल वस्त्र धारण करते हैं। वे भस्म लपेटते हैं । उनकी मूर्तियों पर चमेली के सुगंध युक्त तिल के तेल में सिन्दूर घोलकर चोला चढ़ाया जाता है ।

 

शास्त्र और लोककथाओं में भैरव देव के अनेक रूपों का वर्णन है, जिनमें एक दर्जन रूप प्रामाणिक हैं। श्री बाल भैरव और श्री बटुक भैरव, भैरव देव के बाल रूप हैं। भक्तजन प्रायः भैरव देव के इन्हीं रूपों की आराधना करते हैं । भैरव देव बालाजी महाराज की सेना के कोतवाल हैं। इन्हें कोतवाल कप्तान भी कहा जाता है। बालाजी मन्दिर में आपके भजन, कीर्तन, आरती और चालीसा श्रद्धा से गाए जाते हैं । प्रसाद के रूप में आपको उड़द की दाल के वड़े और खीर का भोग लगाया जाता है। किन्तु भक्तजन बूंदी के लड्डू भी चढ़ा दिया करते हैं । सामान्य साधक भी बालाजी की सेवा-उपासना कर भूत-प्रेतादि उतारने में समर्थ हो जाते हैं। इस कार्य में बालाजी उसकी सहायता करते हैं। वे अपने उपासक को एक दूत देते हैं, जो नित्य प्रति उसके साथ रहता है। कलियुग में बालाजी ही एकमात्र ऐसे देवता हैं , जो अपने भक्त को सहज ही अष्टसिद्धि, नवनिधि तदुपरान्त मोक्ष प्रदान कर सकते हैं ।

 

 

Facebook Comments
19395 Total Views 3 Views Today

Related Post

Abhishek Mourya

ज़िंदगी का हिस्सा है लिखना, सुकून मिलता है. कभी पन्नों पर कभी चेहरों पर, जो पढ़ता हूं लिख देता हूं. अपना काम बस कलम से कमाल करने का हैं